Saim Israr Sr. Reporter
Web desk www.bindasnews.com

नम आंखों के साथ यूथ फार इंडिया के साथियों ने मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की और आतंकवाद और पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी की*
आज शाम 6:00 बजे सिलेक्शन पॉइंट सिलेक्शन पॉइंट चौराहे पर *यूथ फॉर इंडिया* की टीम ने आतंकवाद के खिलाफ अपना विरोध दर्ज किया और अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकवादी हमले में मारे गए लोगो को श्रद्धांजलि दी
हाथो में मोमबत्ती लेकर उनकी आत्मा की शांति के लिए दुआ की गई
लोगों में इस हमले को लेकर काफी गुस्सा है आए दिन हो रहे आतंकवादी हमलों में बेकसूर लोगों की जान जाती है कब तक हम इस तरीके से अपनी आंखों के सामने अपने देशवासियों का खून बेहतर देखेंगे
इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष *एडवोकेट फहत साहब* ने कहां कि हम लोग आतंकवाद के खिलाफ आवाज उठाने के लिए इकट्ठा हुए हैं और लोगों से भी अपील करते हैं कि आप सब लोग इसका विरोध करें आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता कोई धर्म बेगुनाहों का खून बहाने की इजाजत नहीं देता आतंकवाद को लेकर हमारा रुख साफ है किसी भी हाल में कोई समझौता नहीं किया जाएगा कभी सेना पर कभी मजलूम लोगों पर हमले होते हैं इसको लेकर कड़ा रुख अपनाने की जरूरत है
*प्रदेश सचिव मोमिन खान* ने कहा कि हम लोग मोहब्बत का पैगाम लेकर आए हैं हम मोहब्बत की बात करते हैं यूथ फॉर इंडिया तमाम लोगों से अपील करती है कि पाकिस्तान की इस नापाक कोशिश के खिलाफ आवाज उठाई जाए
*प्रदेश उपाध्यक्ष साइम इसरार* ने कहा जो भी इस देश के खिलाफ या इस देश के लोगों के खिलाफ कोई काम करता है हम उसका विरोध करेंगे यह देश मोहब्बत और एकता का पैगाम देता है यह देश महात्मा गांधी और खान अब्दुल गफ्फार खान जैसे लोगों का देश है जो धर्म जात पात से ऊपर उठकर इंसानियत के लिए लड़ाई लड़ते थे हम इस देश में नफरत और आतंक को बर्दाश्त नहीं करेंगे
*चौधरी अहमद मियां* मियां ने कहा कि हम इस हमले की निंदा करते हैं और सरकार से अपील करते हैं कि दोषियों को सख्त से सख्त सजा मिले जो भी इस देश के खिलाफ काम करें उसको फांसी हो यह देश फूलों का बगीचा है जो भी इस बगीचे में से कोई फूल तोड़ता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए
हमारे देश हमारी जान है इस *मौके पर जिला सचिव मुजम्मिल ज़िला उपाध्यक्ष अरहान खान,  महानगर सचिव अमन मलिक दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष फैजान अहमद, राहुल ,कमलेश, रेहान, सद्दाम ,नासिर,  मोनिस अजहरी और अन्य साथी मौजूद थे